November 30, 2022

Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/u332939495/domains/bamiyanfuture.com/public_html/wp-content/themes/chromenews/lib/breadcrumb-trail/inc/breadcrumbs.php on line 253

a
कुंदन तिवारी नोएडा केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार नोएडा को दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र का सबसे शानदार शहर बनाने को कोर कसर नहीं छोड़ना चाहती है। भविष्य में तमाम परियोजनाओं जैसे जेवर एयरपोर्ट फिल्म सिटी का निर्माण फूड पार्क आइटी सेक्टर से इस क्षेत्र की आवासीय और औद्योगिक विकास गतिमान और शानदार होंगे।
कुंदन तिवारी, नोएडा : केंद्र और उत्तर प्रदेश सरकार नोएडा को दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र का सबसे शानदार शहर बनाने को कोर कसर नहीं छोड़ना चाहती है। भविष्य में तमाम परियोजनाओं जैसे जेवर एयरपोर्ट, फिल्म सिटी का निर्माण, फूड पार्क, आइटी सेक्टर से इस क्षेत्र की आवासीय और औद्योगिक विकास गतिमान और शानदार होंगे। हालांकि रियल एस्टेट सेक्टर के लिए एनराक और प्रोपटाइगर की नई सर्वे रिपोर्ट ने एनसीआर प्रापर्टी बाजार में हड़कंप मचा दिया है।
एनराक की रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 2014 या इससे पहले नोएडा-ग्रेटर नोएडा में फ्लैट बुक कराने वाले होम बायर्स सर्वाधिक प्रभावित हैं, क्योंकि दोनों शहरों में 1,18,578 करोड़ रुपये की 1,65,348 फ्लैट का निर्माण ठप या विलंबित चल रहा है। ये देश के कुल ठप या विलंबित यूनिटों का 70 प्रतिशत है, जबकि गुरुग्राम का हिस्सा केवल 13 प्रतिशत है। देश के सात शहरों के रियल एस्टेट सेक्टर को लेकर यह रिपोर्ट तैयार की गई है। एनराक कंसलटेंट ने रिपोर्ट में कहा है कि हर परियोजना में देरी के कारणों का पता लगाया जाना चाहिए और इसका समाधान होना चाहिए। डिफाल्टर बिल्डरों पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। कई बिल्डर्स ऐसे हैं, जिन्होंने ग्राहकों को अपनी परियोजनाओं को समय पर देने के अपने वादों पर चूक की है। इन्होंने पहले ही लगभग पूरी खरीद मूल्य का भुगतान कर दिया है। इतना ही नहीं वह बिना किसी समाधान के होम लोन पर ब्याज भी दे रहे हैं।

डिफाल्टर बिल्डरों के खिलाफ घर खरीदारों ने अपने निवेश को सुरक्षित करने के लिए विभिन्न अदालतों के साथ नेशनल कंपनी ला ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) का दरवाजा खटखटाया है। हालांकि रियल एस्टेट डेवलपर्स पर रिहायशी परियोजनाओं को जल्द पूरा करने का दबाव बढ़ा है। केंद्र के साथ उत्तर प्रदेश सरकार ने होम बायर्स के हित को ध्यान में रखते हुए कई तरह की सहूलियतों की शुरुआत की है। बिल्डरों से भी यह उम्मीद जताई है कि जल्द अधूरे प्रोजेक्ट को पूरा करें। प्रोपटाइगर रिपोर्ट के मुताबिक देश के आठ बड़े शहरों में घरों की कीमतों में पांच से नौ प्रतिशत की वृद्धि दर्ज हुई। नए हाउसिग प्रोजेक्ट लांच हुए हैं। दिल्ली-एनसीआर में कीमतों में छह प्रतिशत की उछाल भी दर्ज हुई है।
साया होम्स निदेशक सेल्स सचिन अग्रवाल ने बताया कि नोएडा-ग्रेटर नोएडा अपने बेहतर योजना और कनेक्टिविटी, सस्ती कीमत, जेवर में नोएडा अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के आने, फिल्म सिटी का निर्माण, आईटी कंपनियों का रुझान, नोएडा और ग्रेटर नोएडा के रियल एस्टेट के विकास के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की बेहतरीन नीति से यहां आने वाले दिनों में भविष्य बहुत ही शानदार है।

बाक्स..
सेक्टर पर यह भी डाल रहे असर
-कीमतों में बढ़ोतरी, निर्माण सामग्री महंगी होना।
-हाल ही में आरबीआइ द्वारा ब्याज दरों में वृद्धि करना।
-रुके प्रोजेक्ट को पूरा करने को सरकार ने की स्ट्रेस फंड की व्यवस्था।
-नोएडा में कई बिल्डरों के डिफाल्ट को लेकर कोर्ट में भी चल रहे केस।
-लाखों लोगों के पैसे फंसे हैं, फिर भी वे बैंक की इएमआइ देने को मजबूर है।
Copyright © 2022 Jagran Prakashan Limited.

source

Leave a Reply

Your email address will not be published.